Mahakal Shayari | Aasmaan Me Mahakal

Mahakal Shayari

Mahakal Shayari
Mahakal Shayari

आसमान में महाकाल हैं, जलने के बाद सब कंकाल हैं,
उज्जैन की भस्म आरती में त्रिकाल हैं,
तभी तो मेरे हर काल को निपटाने वाले मेरे महाकाल हैं।

Aasamaan Mein Mahaakaal Hain, Jalane Ke Baad Sab Kankaal Hain,
Ujjain Kee Bhasm Aaratee Mein Trikaal Hain,

Tabhee to Mere Har Kaal Ko Nipataane Vaale Mere Mahaakaal Hain.


EmoticonEmoticon